StoryBaaz

teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 01। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  हमारी आंखें भी अक्सर उसी के ख्वाब  देखते है, जिसे पाना हमारी हाथों के लकीरों में नहीं होती है। मगर इन आंखों को कहां पता होती है कि हमारी भूल की वजह से दिल को सारी उम्र तड़पना पड़ता है।  कॉलेज का पहला दिन मुझे आज भी याद है जब मेरी […]

This entry is part 01 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 02। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 1 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें    रात  को हम पूरे परिवार के साथ भोजन के लिए डाइनिंग टेबल पर बैठे थे। मुझे, भैया और मां को मिलाकर ही हमारी पूरी फैमिली कंप्लीट थी ।  पापा की मृत्यु आज से 12 साल पहले कंपनी में हुए […]

This entry is part 02 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 03। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 2 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें   “अच्छा ! तो इस छोटे को एक बड़े नाम भी है।” यह बोल कर वह फिर हँस पड़ी। “वैसे आपका नाम क्या है ?” मैंने पूछा।  ” नाम की इतनी भी जल्द क्या है छोटे ? समय आएगा तब जान […]

This entry is part 03 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 04। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 03 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें     मैंने पलट कर देखा। वह अपने आंखों से इशारा कर  मुझे डांस टीम में जाने बोल रही थी। साथ ही वह अपने अंगूठे से लूजर (Looser) का इशारा भी कर रही थी। इसके बाद मैंने कुछ सोचा नही सीधा […]

This entry is part 04 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 05। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 04 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें  लेकिन वो लोग भी नहीं बता पाए की आखिर जूता कहाँ हैं और ये जूते ग़ायब  कैसे हुआ ? तभी वहां पर भैया के कुछ सालियाँ आयें और जूते देने की बदलें में भैया से रीति-रिवाज के अनुसार पैसे मांगे। […]

This entry is part 05 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 06। हिंदी कहानी

Author- अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 05 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें   एक-दूसरे को अच्छी तरह से समझ लिए थे । अब हमारी बातें फोन पर भी घंटो- घंटे तक होने लगी थी। मैं कई दिनों से यह सोच रहा था। यार! दीपा को प्रपोज कर दूं लेकिन साला यह अपना फट्टू  […]

This entry is part 06 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 07। हिंदी कहानी

Author-  अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी Part- 06 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें “बस ऐसे ही ” मैंने थोड़ी धीमी आवाज में बोला। “फिर भी क्या हुआ? ऐसा क्यों बोल रहे हो ? ” उसने दोबारा पूछी। “वैसे तुम्हारे क्लास में एक अमिताभ बच्चन जैसी दाढ़ी रखा कोई लड़का है ?” मैंने पूछा। “हां …..हां…..उसका […]

This entry is part 07 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 08। हिंदी कहानी

Author-  अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 07 पढने के लिए यहाँ क्लिक करें “अरे हां मैं उसी की बात कर रही हूं। मुझे तो उसकी रहन-सहन बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है। पता नहीं कैसी लड़की है?”  सुजाता मौसी कटुता भरी स्वर में बोली। “दीदी आप उसके बारे में गलत सोच रही है। दीपा […]

This entry is part 08 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 09। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 08 पढने के लिए यहाँ क्लिक करे   “अच्छा आप हो ! क्यों जी इतनी जल्दी क्यों जाना चाह रही हैं ? थोड़ा मेरे तरफ से भी रुक जाइए।” अर्जून भैया बोले। उस दिन भैया के बात से पता चल रहा था कि उस दिन भैया काफी […]

This entry is part 09 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
teri -meri aashiqui banner new

Teri-Meri Aashiqui। तेरी – मेरी आशिकी। Part – 10। हिंदी कहानी

Author – अविनाश अकेला  तेरी-मेरी आशिकी का Part- 09 पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें ”पागल हो ? इतनी रात को अगर हम दोनों को एक साथ आदिती दी (दीदी) या कोई और देख लेगा तब बवाल      हो जायेगा।” दीपा मुझे समझाती हुई बोली। “अरे तुम भी ना! तुम  खाम-खा डर रही हो। […]

This entry is part 10 of 21 in the series तेरी - मेरी आशिक़ी
error: कॉपी मत कीजिये !